राजस्थान में 46.51 लाख बच्चों का होगा टीकाकरण ओमाइक्रोन के खतरे के बीच 13.66 लाख बुजुर्गों को भी मिलेगी ऐहतियाती खुराक, नहीं दिखाना होगा सर्टिफिकेट

राजस्थान में 46.51 लाख बच्चों का होगा टीकाकरण ओमाइक्रोन के खतरे के बीच 13.66 लाख बुजुर्गों को भी मिलेगी ऐहतियाती खुराक, नहीं दिखाना होगा सर्टिफिकेट

देशभर में 15 से 18 साल के बच्चों का टीकाकरण 3 जनवरी से शुरू होगा। इस अभियान में भारत बायोटेक कंपनी द्वारा बनाए गए सह-वैक्सीन की एक खुराक का प्रयोग किया जाएगा। इसके लिए पंजीकरण 1 जनवरी से शुरू होगा। 2007 वर्ष की आयु तक पैदा हुए सभी बच्चों को टीका लगवाया जा सकता है। बच्चे का जन्म 2007 में होना चाहिए, चाहे वह 1 जनवरी या 31 दिसंबर, 2007 को हो। हालांकि, राज्य सरकार जल्द ही इसे लेकर एक एसओपी जारी करेगी, जिसमें निर्देश स्पष्ट होंगे।

  राजस्थान की बात करें तो 15-18 आयु वर्ग के 46 लाख 51 हजार बच्चों का टीकाकरण करने का लक्ष्य है. हालांकि राज्य सरकार का स्वास्थ्य विभाग इस आयु वर्ग के बच्चों की संख्या 51 लाख 11 हजार के आसपास मान रहा है, लेकिन केंद्र सरकार ने महापंजीयक द्वारा जारी आंकड़ों के आधार पर 46 लाख 51 हजार का आंकड़ा निकाला है. इंडिया। केंद्र सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन पर नजर डालें तो पूरे देश में उत्तर प्रदेश (यूपी), पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश (एमपी), बिहार के बाद राजस्थान में 15 से 18 साल के किशोर आयु वर्ग का नंबर आता है।

  इस आयु वर्ग के सबसे अधिक बच्चे उत्तर प्रदेश में एक करोड़ 14 लाख 40 हजार हैं। वहीं, 60 वर्ष या उससे अधिक आयु वर्ग के जो लोग बीमार हैं, उन्हें 10 जनवरी से एहतियात की खुराक मिल जाएगी। राजस्थान में ऐसे लोगों की संख्या 13 लाख 66 हजार 600 निर्धारित की गई है। हालांकि, इस समय राजस्थान में इस आयु वर्ग के लोगों की कुल संख्या 73 लाख 40 हजार से अधिक है।

  बूस्टर डोज 9 महीने बाद या दूसरी डोज के 39 हफ्ते बाद दी जाएगी

  पहले यह अनुमान लगाया जा रहा था कि प्रीकंस्यूशन डोज (बूस्टर) के लिए लाभार्थी को डॉक्टर का लिखित प्रमाण पत्र या कोई दस्तावेज जमा करना होगा। लेकिन केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी गाइडलाइंस में इसे अनिवार्य नहीं बनाया गया है. इन आयु वर्ग के लोगों का मौके पर ही पंजीकरण कराकर टीके लगवाए जा सकते हैं। तीसरी खुराक या कहें एहतियाती खुराक केवल उन्हीं व्यक्तियों को दी जा सकती है, जिनकी दूसरी खुराक 9 महीने या 39 सप्ताह हो चुकी है।

  स्वास्थ्य व फ्रंटलाइन वर्कर्स का टीकाकरण 10 जनवरी से
  स्वास्थ्य एवं अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं के लिए 60 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के अलावा 10 जनवरी से एहतियाती खुराक का अभियान भी चलाया जाएगा। प्रदेश में 5 लाख 88 हजार 779 स्वास्थ्यकर्मी हैं। जबकि अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ता 5 लाख 89 हजार 908 से अधिक हैं। स्वास्थ्य निदेशालय के टीकाकरण परियोजना निदेशक डॉ. रघुराज सिंह ने बताया कि राज्य में अन्य वर्गों के साथ-साथ किशोरों को भी टीका लगाने की तैयारी की जा रही है. केंद्र पर पूरी तैयारी कर ली गई है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.