राजस्थान पर मंडरा रहा है कोरोना की तीसरी लहर का खतरा; सभी हॉस्पिटलों में ऑक्सीजन और दवाइयों का स्टॉक रखने और टेस्टिंग बढ़ने के दिए गए निर्देश। लोगो से तीसरी लहर से सुरक्षित रहने की अपील।

राजस्थान पर मंडरा रहा है कोरोना की तीसरी लहर का खतरा:सभी हॉस्पिटलों में   ऑक्सीजन और दवाइयों का स्टॉक रखने और टेस्टिंग  बढ़ने के दिए गए निर्देश।


लोगो से तीसरी लहर से सुरक्षित रहने की अपील।

तीसरी लहर को देखते हुए , मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना के अन्तर्गत कोरोना के उपचार को भी शामिल कर लिया गया है। इसके लिए सभी प्राइवेट अस्पतालों को सूचित किया गया है, और साथ ही उनसे कॉरोना के नए वेरिएंट के इलाज के लिए उचित संख्या में बैड और आवश्यक दवाइयों के साथ - साथ ऑक्सीजन की उपलब्ता सुनिश्चित करने के निर्देश दिए है।
सवाई मान सिंह (SMS) हॉस्पिटल में एक और नया ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट लगवाया गया है।
राजस्थान में कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन के मामले लगातार बढ़ते ही जा रहे हैं। ऐसे में तीसरी लहर आने का खतरा पैदा हो गया है। सरकार भी मरीजों की संख्या बढ़ने से हरकत में आई है।ताकि फिर से  कोरॉना की दूसरी लहर की तरह बड़े संकट का सामना न करने पड़े। पॉजिटिव केसों के बढ़ते प्रभाव को देखते हुए राजस्थान मेडिकल हेल्थ डिपार्टमेंट ने सभी जिलों के कलेक्टर्स को अलर्ट जारी किया है। प्रिंसिपल सेक्रेटरी हेल्थ अखिल अरोड़ा की ओर से एक आदेश जारी करते हुए सभी कलेक्टर्स को जिलों के हॉस्पिटल में दवाइयों और ऑक्सीजन का पर्याप्त स्टॉक रखने और सेंसेटिव एरिया में टेस्टिंग और ट्रेसिंग बढ़ाने के लिए निर्देश दिए है।

पिछले दिनों मुख्यमंत्री अशोक गहलोत संग हुई कोविड मैनेजमेंट कमेटी की बैठक में मौजूद विशेषज्ञों ने सलाह दी थी कि राजस्थान में जिस तेजी से केस आने लगे हैं। यह तीसरी लहर की दस्तक के संकेत हों सकते है। ऐसे में अगर अभी से सतर्क नहीं हुए तो मामला गड़बड़ा सकता है और आने वाले समय में केसों में और भी तेजी से वृद्धि देखने को मिल सकती है।

RUSH हॉस्पिटल में तैयार किया गया नया कोविड आईसीयू वार्ड।

राजस्थान सरकार द्वारा अस्पतालों के लिए जारी आदेश:

*1, जिन जिलों में ब्लॉक लेवल या एरिया वाइज ज्यादा कोरोना के केस आ रहे है वहां सैम्पलिंग  और टेस्टिंग को बढ़ाकर कोरोना के नए संक्रमीतो की पहचान कर उन्हें जल्द आइसोलेशन में रखा जाए।

*2, जिन लोगों के कोरोना के पहली डोज लग गई और दूसरी नहीं लगी है उनको दूसरी डोज लगाई जाए। वहीं जो लोग पहली डोज भी लगाने नहीं आए उनको वैक्सीनेशन के लिए जागरूक किया जाए।

*3, वैक्सीनेशन को बढ़ावा देने और कोविड नियमों की पालना लोग कर सके इसके लिए लोगों में जागरूक पैदा करने के लिए स्वयं सेवी संगठनों, धर्म गुरुओं, व्यापारिक संगठनों की मदद ली जाए। उनके संग बैठक कर उनकी इस अभियान में भागीदार सुनिश्चित करवाई जाए।

*4, राज्य में केंद्र सरकार की निर्देशानुसार 15 से 18 साल के बच्चों का वैक्सीनेशन शुरू करने और 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों ओर हेल्थ वर्कर्स को तीसरी डोज लगाने को लेकर तैयारियां शुरू करने के निर्देश दिए है।

*5,  थर्ड वैव की तैयारियों के लिए जिले में लगाए गए नए ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थिति की जांच करें और मॉकड्रिल करके उनकी टेस्टिंग करने के निर्देश दिए है, ताकि इनमें अगर किसी प्रकार की कमी रह गई हो तो उसे समय रहते अभी दूर किया जा सके। जिससे जरूरत के समय पूरे संसाधन अच्छे से काम में लिए जा सके, और हालात बिगड़ने पर अफरा तफरी से बचा जा सके।




एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.