7 साल के लड़के की समझदारी: हार्ट अटैक से बेहोश हुई मां, बेटे ने 108 पर कॉल कर 5 मिनट में एंबुलेंस बुलाकर बचाई मां की जान

7 साल के लड़के की समझदारी: हार्ट अटैक से बेहोश हुई मां, बेटे ने 108 पर कॉल कर 5 मिनट में एंबुलेंस बुलाकर बचाई मां की जान

बच्चों को आपातकालीन सेवाओं की जानकारी देना कितना फायदेमंद हो सकता है, इसका बेहतरीन उदाहरण सूरत में देखने को मिला, जब 7 साल के बच्चे की मां को सूझबूझ से जीवनदान दिया गया। दरअसल, मां को दिल का दौरा पड़ा और वह बेहोश हो गईं। इस पर लड़के ने तुरंत सेलफोन 108 पर कॉल कर एंबुलेंस को सूचना दी। 5 मिनट के अंदर एंबुलेंस पहुंची और महिला को सिविल अस्पताल ले जाया गया। इस तरह तत्काल इलाज कराकर मां की जान बचा ली गई।

  देरी हुई तो महिला की जान को खतरा था
  मां को दिल का दौरा पड़ने पर 7 साल के बच्चे की हरकत देखकर डॉक्टर भी हैरान रह गए. डॉक्टरों ने कहा कि इतनी कम उम्र में इस तरह की जानकारी होना बड़ी समस्या है। अगर 1 घंटे की देरी होती तो शायद महिला की जान चली जाती। अपने बच्चों को सेल फोन की जानकारी कैसे दें, यह इस बच्चे से सीखा जा सकता है। फिलहाल महिला का इलाज चल रहा है। उसकी हालत स्थिर है।

जब होश आया तो खुद को अस्पताल में पाया : मंजू पांडे
  राहुल ने कहा कि मेरी बहन ने एक बार कहा था कि अगर किसी की तबीयत खराब है तो 108 नंबर पर कॉल करने के लिए एंबुलेंस लाती है. मंजू की बीमारी ने बताया कि पथरी की समस्या है। मैं इलाज के लिए सूरत आया था। मैं बेहोश हो गई। जब उसे होश आया तो वह अस्पताल में थी।

  मंजू पांडे (40) यूपी के अयोध्या की रहने वाली हैं। वह अपने पति और बेटे के साथ उधना के संजय नगर में रहती हैं। बुधवार दोपहर उसे उल्टी होने लगी और हाथ-पैर कांपने लगे। वो बेहोश हो गई। ऐसे में 7 साल के लड़के राहुल ने फौरन 108 पर कॉल कर एंबुलेंस बुलाई.

  डॉक्टर ने कहा- बच्चों को पढ़ाओ तो
  सिविल में ऑन ड्यूटी चिकित्सा अधिकारी डॉ. प्रियंका ने बताया कि बच्ची बहुत होशियार है. आमतौर पर ऐसे बच्चे मोबाइल डिवाइस पर गेम खेलते हैं या कार्टून देखते हैं। इस बच्चे में सेल फोन का इस्तेमाल ठीक से सीखा जा सकता है। राहुल ने तुरंत एंबुलेंस बुलाकर अपनी मां की जान बचाई।


Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.