कोरोना के बाद अब फ्लोरोना : क्या है फ्लोरा संक्रमण? यह कोरोना से कितना खतरनाक है? जानिए इसके बारे में सब कुछ

कोरोना के बाद अब फ्लोरोना : क्या है फ्लोरा संक्रमण? यह कोरोना से कितना खतरनाक है? जानिए इसके बारे में सब कुछ


इस्राइल में कोरोना से जुड़ा एक नया मामला सामने आया है। यहां एक गर्भवती महिला में कोविड-19 और इन्फ्लूएंजा का दोहरा संक्रमण पाया गया है। इस बीमारी का नाम 'फ्लोरोना' रखा गया है। इससे ओमाइक्रोन के बढ़ते मामलों के बीच वैज्ञानिकों की चिंता बढ़ गई है।

  आइए जानते हैं फ्लोरोना रोग क्या है?

  अभी तक मिली जानकारी के मुताबिक फ्लोरा डेल्टा या ओमाइक्रोन जैसा कोरोना का कोई नया स्ट्रेन नहीं है. फ्लोरोना से पीड़ित मरीज पर कोरोना वायरस और इन्फ्लुएंजा वायरस दोनों एक साथ हमला करते हैं। यह संक्रमण को और खतरनाक बना सकता है। महामारी की शुरुआत के बाद से फ्लोर्ना का यह पहला मामला सामने आया है।

  फ्लोरोना हमारे लिए कितना खतरनाक है?

  जहां कोरोना वायरस हमारे श्वसन तंत्र को संक्रमित करता है वहीं इन्फ्लूएंजा वायरस के संक्रमण से निमोनिया और मायोकार्डिटिस जैसी गंभीर बीमारियां होती हैं। ये भविष्य में मरीजों की जान भी ले सकते हैं।

  इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय और यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (सीडीसी) के मुताबिक, फ्लोरोना का संक्रमण तेजी से फैल सकता है। पिछले एक सप्ताह में इजरायल के अस्पतालों ने लगभग 1,849 इन्फ्लूएंजा रोगियों का इलाज किया है। ओमाइक्रोन की लहर के चलते देश में कोरोना के मामले हर दिन दोगुने हो रहे हैं. विशेषज्ञों के मुताबिक, अगले तीन हफ्तों में इस्राइल में ओमाइक्रोन लहर अपने चरम पर पहुंच जाएगी।

  फ्लोरोना के लक्षण क्या हैं?

  अब तक के आंकड़ों के मुताबिक फ्लोरोना से पीड़ित व्यक्ति में एक साथ कई लक्षण देखे जा सकते हैं। इसमें निमोनिया, मायोकार्डिटिस और श्वसन संबंधी अन्य समस्याएं शामिल हैं। अगर सही समय पर इलाज न किया जाए तो ये समस्याएं जानलेवा साबित हो सकती हैं।

  फ्लोरोना के खिलाफ प्रतिरक्षा की भूमिका

  अल-वतन अखबार से बात करते हुए काहिरा यूनिवर्सिटी अस्पताल के डॉ. नहला अब्देल वहाबी ने बताया कि फ्लोराओना हर व्यक्ति को अलग तरह से संक्रमित कर सकता है. इसका कारण लोगों की रोग प्रतिरोधक क्षमता है। उनके मुताबिक, कमजोर इम्युनिटी के कारण लोगों के दिल की मांसपेशियां फूल सकती हैं, क्योंकि दो गंभीर वायरस का एक साथ अटैक करना आम बात नहीं है। फ्लोराओना से हमें और क्या नुकसान हो सकता है, इस पर शोध किया जा रहा है।

  फ्लोर्ना पर इजरायली स्वास्थ्य मंत्रालय की राय

  फिलहाल, इजरायल के स्वास्थ्य मंत्रालय ने सरकार से सिफारिश की है कि छह महीने से अधिक उम्र के व्यक्तियों को एक इन्फ्लूएंजा का टीका दिया जाना चाहिए जो कि कोरोना वैक्सीन की खुराक के साथ भी सुरक्षित हो। अधिकारियों की माने तो देश में फ्लोर्ना के ऐसे और भी मामले हो सकते हैं, जिनकी पहचान अभी नहीं हो पाई है.
Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.