तीसरी खुराक के लिए रजिस्ट्रेशन आज से शुरू: किसी भी दस्तावेज की जरूरत नहीं, गंभीर बीमारियों से ग्रसित बुजुर्गों के साथ-साथ फ्रंटलाइन वर्कर्स को दी जाएगी प्राथमिकता

तीसरी खुराक के लिए रजिस्ट्रेशन आज से शुरू: किसी भी दस्तावेज की जरूरत नहीं, गंभीर बीमारियों से ग्रसित बुजुर्गों के साथ-साथ फ्रंटलाइन वर्कर्स को दी जाएगी प्राथमिकता
10 जनवरी से ली जाने वाली तीसरी या एहतियाती खुराक के लिए पात्र लोग शनिवार शाम यानी आज से ऑनलाइन अपॉइंटमेंट बुक कर सकते हैं। इसके अलावा टीकाकरण केंद्र पर जाकर भी ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है।

  देश में एहतियाती खुराक तीन प्राथमिकता समूहों- स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं, अग्रिम पंक्ति के कार्यकर्ताओं और 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को सहरुग्णता (गंभीर बीमारियों) के साथ दी जानी है। पीएम मोदी ने 25 दिसंबर को इसका ऐलान किया था.

सरकार की ओर से जारी दिशा-निर्देशों के मुताबिक एहतियात की खुराक कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक देने की तारीख से नौ महीने (39 हफ्ते) बाद ही ली जा सकती है. जब भी संबंधित व्यक्ति डॉक्टर के पर्चे की खुराक के लिए योग्य हो जाता है, तो कोविन उसे एक टेक्स्ट संदेश भेजकर सूचित करेगा कि उसे तीसरी खुराक या डॉक्टर के पर्चे की खुराक लेने की आवश्यकता है।

क्या तीसरी और प्रिकॉशन डोज लगवाने के लिए किसी प्रकार के सर्टिफिकेट की आवश्यकता होगी?

तीसरी खुराक केवल 60 वर्ष से अधिक आयु के उन लोगों को ही दी जानी है जो सहरुग्णता (एक से अधिक रोग) से पीड़ित हैं। सरकार ने इसके अंतर्गत आने वाली 22 बीमारियों की सूची जारी की है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह स्पष्ट कर दिया है कि 60 वर्ष और उससे अधिक आयु के सभी लोगों को कॉमरेडिडिटीज के साथ डॉक्टर के पर्चे की खुराक के लिए किसी भी प्रमाण पत्र का उत्पादन करने की आवश्यकता नहीं होगी। हालांकि, ऐसे लोगों को डॉक्टर से जरूरी सलाह लेने के लिए कहा गया है।

  एहतियाती खुराक के लिए CoWIN पर स्लॉट बुक करना अनिवार्य नहीं है। हालांकि, एहतियाती खुराक देने वाले वैक्सीन केंद्रों की जानकारी कोविन से ही मिलेगी। यह  खुराक लेने के बाद इसकी जानकारी लाभार्थी के वैक्सीन सर्टिफिकेट में दिखने लगेगी।

  क्या तीसरी खुराक के लिए किसी प्रकार का भुगतान करना होगा?

  सरकारी वैक्सीन केंद्रों पर एहतियाती खुराक मुफ्त उपलब्ध होगी। हालांकि इसके लिए निजी अस्पतालों या वैक्सीन केंद्रों पर पैसे देने होंगे। सरकार ने कहा है कि सभी नागरिक अपनी आय की परवाह किए बिना मुफ्त कोरोना वैक्सीन के हकदार हैं। हालांकि, सरकार ने उन लोगों से आग्रह किया है जो भुगतान करने में सक्षम हैं, उन्हें निजी अस्पतालों में वैक्सीन केंद्रों का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

अभी तक 2 करोड़ से अधिक बच्चों को मिल चुका है टीका

  15 से 18 साल के बच्चे के लिए 3 जनवरी से शुरू हुए बच्चों के टीकाकरण में अब तक 20 लाख से ज्यादा डोज ली जा चुकी हैं। इसके अलावा 2 करोड़ 19 लाख से ज्यादा लोगों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। 15 सेे18 वर्ष के बच्चो के  टीकाकरण के लिए ऑनलाइन के साथ-साथ ऑफलाइन पंजीकरण भी किया जा सकता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.