WHO ने कोरोनावायरस रोगियों के इलाज के लिए दो नई दवा को मंजूरी दी।जानिए कौनसी है ये नई दवाईयां?

WHO ने कोरोनावायरस रोगियों के इलाज के लिए दो नई दवा को मंजूरी दी।जानिए कौनसी है ये नई दवाईयां?

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को ओमाइक्रोन से बढ़ती चिंताओं के बीच कोविड -19 रोगियों के इलाज के लिए दो नई दवाओं के उपयोग की सिफारिश की है।

संयुक्त राष्ट्र निकाय ने गंभीर लक्षणों वाले रोगियों के साथ-साथ गैर-गंभीर मामलों के इलाज के लिए दो नई दवाओं की सिफारिश की है

 WHO ने एली लिली एंड कंपनी(Eli Lilly & Co.) की संशोधित दवा rheumatoid arthritis और ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन पीएलसी (GlaxoSmithKline Plc’s)  के मोनोक्लोनल एंटीबॉडी(monoclonal antibody) की सिफारिश की है

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को कोविड -19 रोगियों के इलाज के लिए दो नई दवाओं के उपयोग की सिफारिश की क्योंकि तेजी से फैलने वाले ओमाइक्रोन वेरिएंट चिंता का विषय हैं। संयुक्त राष्ट्र के निकाय ने गंभीर लक्षणों वाले रोगियों के साथ-साथ गैर-गंभीर मामलों के इलाज के लिए दो नई दवाओं की सिफारिश की है।WHO  लीली एंड कंपनी की संशोधित दवा और ग्लैक्सोस्मिथक्लाइन पीएलसी के मोनोक्लोनल एंटीबॉडी की सिफारिश की है। लिली की बारिसिटिनिब दवा एक जानूस किनसे (जेएके) अवरोधक है। आपकी जानकारी के लिए बता दे कि जानूस किनसे दवाओं का एक वर्ग जिसका उपयोग ऑटोइम्यून स्थितियों, रक्त और अस्थि मज्जा के कैंसर और रुमेटीइड गठिया के इलाज के लिए किया जाता है।

किस प्रकार के रोगियों लिए कर सकते है इनका उपयोग

डब्ल्यूएचओ ने कहा है कि, कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के संयोजन  से हुई किसी भी प्रकार की गंभीर बीमारी वाले रोगियों के लिए बारिसिटिनिब (baricitinib) की "दृढ़ता से अनुशंसा"(strongly recommend) करते  है। जबकि सोट्रोविमैब(sotrovimab) का उपयोग गैर-गंभीर मामलों वाले रोगियों के लिए किया जा सकता है।

जानिएWHO ने इन नई दवाओं पर क्या कहा ?

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, गठिया की दवा बारिसिटिनिब जीवित रहने की दर में सुधार कर सकती है और गंभीर रूप से बीमार रोगियों में वेंटिलेशन की आवश्यकता को कम कर सकती है। इसका उपयोग कॉर्टिकोस्टेरॉइड्स के साथ किया जाना चाहिए।

 WHO ने बारिसिटिनिब पर अपनी यह  सलाह, यू.एस. और यूरोपीय संघ की एजेंसियों द्वारा इस दवा के आपातकालीन-उपयोग की मंजूरी पिछले मई के महीने में दिए जाने के बाद दी  है।

सोट्रोविमैब दवा गंभीर रोगियों के लिए लाभकारी

डब्ल्यूएचओ ने गैर-गंभीर मामलों वाले रोगियों में सोट्रोविमैब नामक एक मोनोक्लोनल एंटीबॉडी के उपयोग के लिए एक सशर्त सिफारिश की है। उनके अनुसार, अस्पताल में भर्ती होने के उच्चतम जोखिम वाले रोगियों को ही यह दवा दी जानी चाहिए। कम जोखिम वाले लोगों मेंं ये दवा बहुत कम असरदार साबित हुई है ।
 



Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.